कसोल : भारत का मिनी – इज़राइल

0
530
कसोल

कसोल भारत के राज्य हिमाचल प्रदेश के बेहद खूबसूरत जिले कुल्लू का एक बेहद खूबसूरत गाँव है |यह अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए दुनिया भर में  प्रसिद्ध है | देश -विदेश से हर साल हज़ारों शैलानी इस खूबसूरत जगह का आनंद लेने आते हैं |इसे भारत का मिनी – इज़राइल भी कहा जाता है क्यूंकि यहां इस्राएल से काफी ज्यादा संख्या में टूरिस्ट आते हैं |यह कुल्लू से लगभग 40km   की दुरी पर है | यह पार्वती नदी के किनारे बसा हुआ एक सूंदर गाँव है  | यह भुंतर और मणिकरण के बिच के रुट में आता है | मणिकरण , मलाणा  और खीरगंगा जाने वाले टूरिस्टों का ये पड़ाव रहता है  |यह पार्वती वैली में बसा हुआ एक सूंदर गाँव है | यहां आए शैलानियों को यहां के पहाड़ , मौसम ,नदी  काफी भाता है | कसोल सूंदर पहाड़ों और बड़े बड़े देवदार के पेड़ों से घिरा हुआ एक दर्शनीय  स्थल है |

वातावरण : कसोल का मौसम साल भर मन को लुभाने वाला होता है  और आप  यहां  दिसंबर से फरवरी तक बर्फ का आनंद भी ले सकते हैं | कसोल में अधिकतर शैलानी गर्मियों में गर्मी से राहत पाने के लिए आते हैं | अप्रैल और जून के बीच यहां शैलानियों की काफी तादाद रहती है  |

कसोल की कुछ बेहतरीन जगह

कसोल में कुछ ऐसी बेहतरीन जगह हैं जहां आप अपनी छुट्टिओं का भरपूर आनद ले सकते हैं  | इनमे से कुछ हैं :
मणिकरण : मणिकरण कसोल से लगभग  3.5 km दूर एक सूंदर जगह है  | ये भी कसोल की ही तरह पार्वती नदी के साथ साथ  बसा हुआ एक सुंदर गांव है | यहां   गर्म  पानी का सोता है  और मणिकर्ण साहिब नाम से प्रसिद्ध एक  सूंदर गुरुद्वारा भी है |

मलाणा : मलाणा हिमाचल प्रदेश का एक प्राचीन गांव है |  यह  एक बेहद सूंदर और रहष्यमयी गांव है जो की चंदरखानी और देओ टीबा की चोटियों की छांव में बसा हुआ है |

खीरगंगा : खीरगंगा एक बेहद खूबसूरत ट्रेकिंग डेस्टिनेशन मानी जाती है | खीरगंगा ट्रेक मणिकरण से उप्पर बर्षेनी नाम की जगह से शुरू होती है | खीरगंगा जाने के लिए दो रिश्ते हैं जिनमे से एक जंगल से हो कर और एक गाँव से हो कर है | खीरगंगा बर्फ की चोटियों और देवदार के पेड़ों की गोद में बसा हुआ है | खीरगंगा में भी गर्म पानी का  सोता है , और शिव भक्तों के लिए वहां भोलेनाथ का मंदिर  भी है |

भुंतर : भुंतर मंडी जिला और कुल्लू जिला के रूट में आने वाला स्थान है | भुंतर से दो अलग अलग राश्ते जाते  हैं जो की एक मणिकर्ण , कसोल की तरफ और एक कुल्लू मनाली की तरफ ले जाता है | यहां एक राष्ट्रिय हवाई अड्डा भी है |

तोश : तोश पार्वती वैली और पार्वती नदी के बिच में बसा हुआ एक मनमोहक गाँव है  | यह एक रूट ट्रेक भी है जो की मणिकरण से खीरगंगा जाने वाले बैगपैकर  का कैंपिंग स्पॉट रहता है |

ये सभी जगह ट्रैकिंग , कैंपिंग और हाईकिंग के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है |देश विदेश से बैगपैकर  यहां हर साल आते हैं और अपने साथ ढेर सारी यादें और खुशिओं को वापिस ले जाते हैं | कसोल की यह सभी खूबसूरत जगहें पार्वती वैली की गोद में बसी हुई हैं  |

त्यौहार : कसोल म्यूजिक फेस्टिवल , कसोल में हर साल होने वाला एक म्यूजिक फेस्टिवल है | कसोल में यह त्यौहार हर बार नए साल की शाम को होता है | दुनिया भर के लोग इस त्यौहार में शामिल होने के लिए आते हैं |

यातायात : क्यूंकि कसोल एक प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल है इसलिए यहां के लिए काफी यातायात के साधन हैं| भुंतर से कसोल और मणिकरण के लिए समय समय के बाद बस सर्विसेज हैं, और लोकल टैक्सी वहां हमेशा उपलब्ध हैं | हालाँकि कसोल के लिए कोई सीधी  ट्रैन या फ्लाइट नहीं हैं |

तो अगर आप भी इस बार अपनी छुट्टिओं में हिमाचल प्रदेश घूमना चाहते हैं तो कसोल : मिनी इज़राइल, क्यों नहीं  ?

4.1 (82.5%) 8 vote[s]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here