क्या आप जानते है महेंद्र सिंह धोनी के जीवन के बारे में? अगर नहीं, तो पढ़िए…

0
700
महेंद्र सिंह धोनी

महेंद्र सिंह धोनी

महेंद्र सिंह धोनी एम एस धोनी के नाम से जाने जाते है. उनका जन्म 7 जुलाई 1981 को झारखंड के राँची में हुआ था. उनके दोस्त उन्हें माही नाम से पुकारते है. एम एस धोनी भारतीय क्रिकेटर है और भारत क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान भी है. धोनी भारत के सबसे सफल एक दिवसीय अंतराष्ट्रीय कप्तान है. धोनी शांतचित्त कप्तान के नाम से भी जाने जाते है. धोनी की कप्तानी में भारत ने काफ़ी ट्रॉफ़ी भी जीती हैं. उन्होंने कई पुरस्कार भी प्राप्त किए हैं जैसे आईसीसी वनडे प्लेयर ऑफ़ द इयर अवार्ड (प्रथम भारतीय खिलाड़ी जिन्हें ये सम्मान मिला), राजीव गाँधी रत्तन् पुरस्कार और पद्मश्री पुरस्कार. एम एस धोनी दुनिया के पहले ऐसे कप्तान है जिनके पास आईसीसी के सभी कप हैं. धोनी ने 4 जनवरी 2017 को भारतीय एक दिवसीय अंतराष्ट्रीय और 20 – 20 टीम की कप्तानी छोड़ दी.

निजी जिंदगी

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म झारखंड के राँची में हुआ था. उनके पिता का नाम पान सिंह धोनी है और माता का नाम देवकी देवी है. धोनी के पिता पान सिंह धोनी मेकोन कंपनी के जूनियर मैनेजमेंट में काम करते थे. उनकी एक बहन भी है जिनका नाम जयंती गुप्ता है और एक भाई भी है जिनका नाम नरेन्द्र सिंह धोनी है. बचपन से ही धोनी सचिन तेंदुलकर और एडिम गिलक्रिस्ट के प्रशंसक है. धोनी डी ए वी जवाहर विद्यालय मंदिर, श्यामली में पढ़ते थे. उनको बॅडमिंटन और फुटबाल खेलने का शोक था. उनके फुटबाल कोच ने उनको क्रिकेट क्लब भेजा था ताकि धोनी क्रिकेट खेलना सीख सखें. उन्होंने कभी क्रिकेट नहीं खेला था, फ़िर भी धोनी ने अपने विकेट-कीपिंग के कौशल से सबको प्रभावित किया. उन्होंने दसवीं कक्षा के बाद ही क्रिकेट पर विशेष ध्यान दिया और वह एक सफल क्रिकेटर बनकर उभरे. 4 जुलाई 2010 को धोनी ने साक्षी रावत से शादी कर ली. इस खुशी के अवसर पर धोनी के दोस्त और रिश्तेदार आए थे और उन्हें आशीर्वाद दे कर चले गये.

एकदिवसीय कैरियर

धोनी की एक दिवसीय कैरियर की शुरुआत कुछ ख़ास नहीं रही और अपने पहले ही मैच में बिना खाता खोले रन आउट हो गए थे. बांग्लादेश के खिलाफ उनका प्रदर्शन अच्छा न होने के बावजूद भी वे पाकिस्तान के खिलाफ वनडे टीम के लिए चुने गए थे. उस श्रृंखला के दुसरे मैच में जो कि धोनी का पाँचवा वनडे मैच था और वह मैच विशाखापत्तनम में खेला गया था धोनी ने उस मैच में 123 गेंदों पर शानदार 148 रनों की पारी खेली थी. श्रीलंका के द्विपक्षीय एकदिवसीय श्रृंखला (अक्टूबर-नवम्बर, 2005) में धोनी को पहले दो मैचों में बल्लेबाजी के कुछ ही अवसर मिले, और तीसरे एक दिवसीय में धोनी ने 145 गेंदो में 183 रन बनाए. भारत ने 2006 में पाकिस्तान के खिलाफ अपने पहले मैच में 50 ओवरों में 328 रन बनाये, जिसमें धोनी ने 68 रन का योगदान दिया. हालांकि टीम ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया. आईसीसी विश्व टवेंटी- 20 में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए उन्होंने साउथ अफ्रीका में प्रतिद्वंदी पाकिस्तान के खिलाफ एक कड़े मुकाबले में 24 सितम्बर 2007 को जीत हासिल की और उसके बाद किसी भी तरह के क्रिकेट में वर्ल्ड कप जीतने वाले वह दूसरे भारतीय कप्तान बन गए.

5 (100%) 2 votes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here