गिलोय के औषधीय गुण और सेहत को लाभ है अनमोल, जानिए कैसे

0
102
गिलोय के औषधीय गुण
गिलोय के औषधीय गुण

गिलोय के औषधीय गुण: गिलोय का रस वात, पित्त, कफ़ नाशक माना गया है. इसकी बेल का रस सदियों से भारत में आयुर्वेदिक औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है. यह बेल आम तौर पर जंगलों-झाड़ियों में पाई जाती है. गिलोय के औषधीय गुण और लाभों की लिस्ट काफी लंबी है. इसे वैज्ञानिक भाषा में तिनोस्पोरा कोरडीफ़ोलिया (Tinospora Cordifolia) कहा जाता है. भारत में गिलोय की बेल कोमधुपर्णी, अमृता, तंत्रिका, कुण्डलिनी गुडूची आदि नामों से जाना जाता है. पीलिया के लिए गिलोय सबसे उत्तम आयुर्वेदिक औषधि माना गया है. इस लेख में हम आपको गिलोय के औषधीय गुण और सेहत से जुड़े लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं.

गिलोय के औषधीय गुण जानने से पहले आपको बता दें कि गिलोय के पत्ते पान के पत्तों के आकर के होते हैं जहाँ ग्रीष्म ऋतु में पीले रंग के फूल गुच्छों के रूप में निकलते हैं वहीँ इनके फल मटर के दानों की तरह होते हैं जो कईं प्रकार के जैव सक्रिय पदार्थ बनाने में इस्तेमाल किए जाते हैं. यह कईं प्रकार के रोगों को ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. बहरहाल, चलिए जानते हैं गिलोय के औषधीय गुण स्वास्थ्य से जुड़े लाभ आखिर क्या क्या हो सकते हैं.

गिलोय के औषधीय गुण

गिलोय का रस और पत्ते दोनों आयुर्वेद पद्दति में अनेकों प्रकार की दवाईआ बनाने में इस्तेमाल किए जाते हैं. गिलोय के औषधीय गुण निम्नलिखित हैं-

डेंगू बुखार को करे ठीक

गिलोय में एंटी-पायरेटिक गुण मौजूद होते हैं जो बुखार को कम करने के लिए उपयोगी हैं. गिलोय के औषधीय गुण डेंगू, मलेरिया आदि जैसे घातक से घातक बुखार को ठीक करने में सहायक है. गिलोय का काढ़ा पीने से हर प्रकार का वायरल ठीक किया जा सकता है.

पाचन प्रणाली रखे दरुस्त

फ़ास्ट और जंक फ़ूड खाने का सीधा प्रभाव हमारे पेट और पाचन प्रणाली पर पड़ता है. यदि[आचं प्रणाली में बिगड़ाव की स्तिथि बन जाए तो खाना सही से नहीं पच पाता और अपच, LDL, फैटी लीवर जैसे रोग हमे आ घेरते हैं. ऐसी स्तिथि में गिलोय के औषधीय गुण रामबाण साबित होते हैं. इसके लिए आप गिलोय के रस में गुडूची पाउडर का आधा चम्मच मिला कर पी लें. ऐसा करने से उलटी, पेट में दर्द, मितली आदि रोग ठीक हो जाएंगे.

डायबिटीज़ को रोके

जो लोग डायबिटीज़ से पीड़ित हैं, उनके लिए गिलोय के औषधीय गुण किसी वरदान से कम नहीं हैं. इसमें मौजूद हाइपोग्लिसीमिक शरीर में शुगर; लेवल की मात्रा को कम करने में उपयोगी है. साथ ही यह रक्तचाप को कम करता है. गिलोय का रस टाइप 2 डायबिटीज़ के लिए अति उत्तम है. इसके लिए आप सुबह शाम गिलोय के जूस का सेवन करें.

चेहरे को बनाये सुंदर

गिलोय के औषधीय गुण त्वचा के लिए लाभकारी हैं. इसमें मौजूद एंटी- ऑक्सीडेंट और एंटी एजिंग गुण बढती उम्र के प्रभाव को त्वचा पर आने से रोकते हैं साथ ही यह चेहरे पर दाग धब्बों, पिम्पल्स को दूर करते हैं और आपको चमकती त्वचा प्रदान करते हैं. गिलोय के दिन में एक बार चेहरे पर लगाने से आपके चेहरे की झुर्रियां और दाग धब्बे गायब हो जाएंगे.

5 (100%) 5 votes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here