दुनिया के सात अजूबे – देखें तस्वीरें

0
3370
दुनिया के सात अजूबे
Rate this post

दुनिया के सात अजूबे ऐसे सुन्दर प्राकृतिक और मानव द्वारा निर्मित संरचनाओं का प्रारूप है, जो मानव को हैरान करती हैं. दुनिया में ऐसी बहुत सी जगह है जो अपने आप में बहुत अद्भुत और प्रसिद्ध है. प्राचीन काल से 21वीं शताब्दी तक दुनिया के अजूबों की ऐसी कई विभिन्न सूचियां तैयार की गयी हैं. प्राचीन काल की कलाकारी और उनसे निर्मित स्मारक सुंदरता एक अद्भुत उदाहरण हैं और जिन्हें देख कर बहुत आश्चर्य होता है.

प्राचीन काल में दुनिया के सात अजूबे

1. गीज़ा के पिरामिड
2. बेबीलोन के झूलते बाग़
3. ओलम्पिया में जियस की मू्र्ति
4. अर्टेमिस का मन्दिर
5. माउसोलस का मकबरा
6. रोडेस कि विशालमूर्ति
7. ऐलेक्जेन्ड्रिया का रोशनीघर

21वीं शताब्दी से पहले यह सुन्दर इमारतें और स्मारक दुनिया के सात अजूबे की श्रेणी में सबसे ऊपर थी. प्राचीन काल की दुनिया के सात अजूबे की श्रेणी को दोबारा बनाया गया क्यूंकि इनमें से अधिकांश पुरानी इमारतें और स्मारक नष्ट हो चुके है. प्राचीन काल की इमारतों में से गीज़ा के पिरामिड अभी भी सात अजूबों की श्रेणी में सम्मिलित हैं. 2001 में स्विस कारपोरेशन न्यू 7 वंडर्स फाउंडेशन ने दुनिया भर में 200 स्मारकों और इमारतों के बीच 7 सबसे बेहतरीन इमारतें और प्राचीन स्मारक को चुनने की एक प्रतिस्पर्धा चलायी. सात अजूबों को चुनने के लिए पुरे विश्व भर से वोटिंग हुई. उस समय गीज़ा के पिरामिड को एक सम्माननीय प्रतिभागी मान कर प्रतियोगिता से अलग कर दिया गया और आज यह सात अजूबो में पहले स्थान पर मौजूद है. न्यू 7 वंडर्स फाउंडेशन के अनुसार उस समय लगभग 100 मिलियन से ज्यादा लोगों ने इस परियोजना के लिए अपने वोट फ़ोन और इंटरनेट से दिए. वोटिंग 2007 तक चली और लिस्बन में 7 जुलाई, 2007 को दुनिया के 7 अजूबे की घोषणा की गयी.

21वीं शताब्दी में दुनिया के सात अजूबे

1. ताजमहल
2. चीन की विशाल दीवार
3. चीचेन इट्ज़ा
4. कोलोसियम
5. क्राइस्ट द रिडीमर की प्रतिमा
6. माचू पिच्चू
7. पेत्रा

ताजमहल

भारत के आगरा शहर में स्थित एक विश्व धरोहर मक़बरा है. इसका निर्माण मुग़ल सम्राट शाहजहाँ ने, अपनी पत्नी मुमताज़ की याद में करवाया था. ताजमहल को भारत की इस्लामी कला का रत्न भी घोषित किया गया है.

दुनिया के सात अजूबे (देखें वीडियो)

चीन की विशाल दीवार

चीन की विशाल दीवार मिट्टी और पत्थर से बनी एक किलेनुमा दीवार है जिसे चीन के विभिन्न शासको के द्वारा उत्तरी हमलावरों से रक्षा के लिए पाँचवीं शताब्दी ईसा पूर्व से लेकर सोलहवी शताब्दी तक बनवाया गया। इसकी विशालता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की इस मानव निर्मित ढांचे को अन्तरिक्ष से भी देखा जा सकता है. यह मानव निर्मित दीवार 4000 मील तक फैली है.

दुनिया के सात अजूबे

चीचेन इट्ज़ा

मेक्सिको में बसी चीचेन इट्ज़ा नामक इमारत दुनिया में माया सभ्यता की गौरवपूर्ण काल की गाथा गाती है. इस सीढ़ीदार पिरामिड का आधार चौकोर है और चारों ओर से शीर्ष पर स्थिति मंदिर के लिए हर तरफ 91 सीढ़ियां हैं। हर सीढ़ी एक दिन का प्रतीक है और मंदिर 365वां दिन.

दुनिया के सात अजूबे

कोलोसियम

इटली देश के रोम नगर के मध्य निर्मित रोमन साम्राज्य का सबसे विशाल एलिप्टिकल एंफ़ीथियेटर है. यह रोमन स्थापत्य और अभियांत्रिकी का सर्वोत्कृष्ट नमूना माना जाता है.यह एक विशाल खेल स्टेडियम है जिसमें 50,000 लोग गुलामों और जानवरों की खुनी लड़ाई देखते थे.

दुनिया के सात अजूबे

क्राइस्ट द रिडीमर की प्रतिमा

ब्राज़ील के रियो डी जेनेरो में स्थापित ईसा मसीह की एक प्रतिमा है जिसे दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा आर्ट डेको स्टैच्यू माना जाता है. यह प्रतिमा अपने 9.5 मीटर (31 फीट) आधार सहित 39.6-मीटर (130 फुट) लंबी और 30-मीटर (98 फुट) चौड़ी है. इसका वजन 635 टन (700 शॉर्ट टन) है और तिजुका फोरेस्ट नेशनल पार्क में कोर्कोवाडो पर्वत की चोटी पर स्थित है 700-मीटर (2,300 फुट) जहाँ से पूरा शहर दिखाई पड़ता है.

दुनिया के सात अजूबे

माचू पिच्चू

दक्षिण अमेरिकी देश पेरू मे स्थित एक कोलम्बस-पूर्व युग, इंका सभ्यता से संबंधित ऐतिहासिक स्थल है. 15वीं शताब्दी में सतह से 2430 मीटर के ऊपर बना यह शहर अपने आप में ही एक अजूबा है.

दुनिया के सात अजूबे

पेत्रा

जॉर्डन के म’आन प्रान्त में स्थित एक ऐतिहासिक नगरी है जो अपने पत्थर से तराशी गई इमारतों और पानी वाहन प्रणाली के लिए प्रसिद्ध है. इस इमारत में रेत से इमारतों पर सुंदर नक्काशी की गयी है.आधुनिक युग में यह एक मशहूर पर्यटक स्थल है.

दुनिया के सात अजूबे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here