कम पैसों में भिंडी की खेती (Bhindi ki Kheti) करके आप भी हो सकते हैं मालामाल जानिए कैसे

0
294
भिंडी की खेती
भिंडी की खेती

भिंडी की सब्जी की डिमांड साल के 12 महीने तक लगातार चलती रहती है. भिंडी की तरी वाली और खुश्क सब्जी लगभग हर किसी की मन पसंदीदा सब्जी है. शादी से लेकर हर प्रकार के समारोह के लिए भिंडी की सब्जी को सबसे पहले खरीदी जाती है. इसी वजह से इसकी खेती (Bhindi ki Kheti) की अहमियत भी भारत में काफी अधिक है. यदि आप खेती के माध्यम से कम पैसों में अधिक मुनाफा हासिल करना चाहते हैं तो भिंडी की खेती आपके लिए सबसे बेहतर विकल्प साबित हो सकती है. आज के इस लेख में हम आपको भिंडी की खेती का आधुनिक एवं वैज्ञानिक ढंग बताने जा रहे हैं जिसे अपनाकर आप भिंडी की अच्छी खासी पैदावार प्राप्त कर सकते हैं.
भिंडी की खेती के लिए कौन सा मौसम सही है और कौन सा नहीं, इसकी खेती के लिए कैसे खाद सबसे सही साबित होगी इन सभी सवालों के जवाब आज हम आपको इस लेख में बताने जा रहे हैं. यदि आप एक किसान है या फिर भिंडी की खेती (Bhindi ki Kheti) में रुचि रखते हैं तो यह जानकारी आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है.

भिंडी की खेती (Bhindi ki Kheti) के लिए जलवायु

किसी भी फसल की खेती के लिए जलवायु अहम भूमिका निभाती है. ऐसे में यदि आप भिंडी की खेती करने की सोच रहे हैं तो आपको इसके जलवायु की जानकारी होना अति आवश्यक है क्योंकि सही मौसम की जानकारी की कमी होने के कारण आपको इसकी खेती में भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है. अभी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि भिंडी की खेती (Bhindi ki Kheti) के लिए गर्मी का मौसम सबसे उत्तम माना गया है. गर्मी के मौसम में अच्छी-खासी भिंडी की पैदावार प्राप्त की जा सकती है. इसके लिए 20 डिग्री से 40 डिग्री तक का तापमान सही माना गया है. खेती के दौरान यदि 40 से अधिक तापमान हो तो भिंडी के फूल गिरने लगते हैं.

भिंडी की खेती (Bhindi ki Kheti) के लिए भूमि

यदि आप भिंडी की खेती की प्लानिंग कर रहे हैं तो आपको इसकी अच्छी पैदावार के लिए जमीन अर्थात भूमि के बारे में जानकारी होना बेहद आवश्यक है. भूमि का चयन सही ना होने के चलते कई बार हमारी अच्छी खासी फसल भी तबाह हो जाती है. भिंडी की खेती (Bhindi ki Kheti) के लिए दोमट मिट्टी को सबसे उत्तम माना गया है. इस मिट्टी में जल निकास आसानी से हो जाता है साथ ही यह मिट्टी जैविक खादों से भरपूर होती है जो कि बड़े पैमाने पर भिंडी की खेती करने के लिए सहायक साबित होती है.

भिंडी की खेती (Bhindi ki Kheti) के लिए भूमि कैसे तैयार करें

भिंडी की खेती करने के लिए सबसे पहले आप खेत को जोतकर उसमें खरपतवार, घास फूस, कंकर, पत्थर आदि जैसी चीजें निकाल कर बाहर फेंक दें ताकी फसल को कोई नुकसान ना पहुंचे. अब खेत को दो से तीन बार पलेवा जरूर करना चाहिए इससे आपका खेत समतल हो जाता है. यदि आप खेत को समतल करने में असमर्थ है तो खेत में क्यारियां तैयार कर ले ताकि (Bhindi ki Kheti) सिंचाई करने में आपको किसी प्रकार की कोई दिक्कत ना आए.

भिंडी की खेती (Bhindi ki Kheti) के लिए जरूरी खाद

भिंडी की खेती के लिए गोबर की खाद कम से कम 300 से 350 क्विंटल प्रति हेक्टेयर रखें जबकि नाइट्रोजन 60 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर, सल्फर 30 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर और पोटाश 50 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर होनी चाहिए. इसके बाद आप बीज की बुवाई करें ताकि आपको अच्छी फसल (Bhindi ki Kheti) की पैदावार प्राप्त हो सके.
यह भी जानें:- गोभी की खेती

5 (100%) 2 votes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here