मोदी सरकार का बड़ा फैसला, लाल बत्ती पर लगी रोक

0
358
लाल बत्ती

मोदी सरकार का बड़ा फैसला – लाल बत्ती पर लगी रोक

मोदी कैबिनेट की ओर से एक बड़ा फैसला लिया गया है. फैसला यह है कि 1 मई से कोई भी मंत्री लाल बत्ती का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे. इस फैसले ने पूरे VIP लोगों को हिला कर रख दिया है. केंद्र सरकार ने भी इस फैसले पर अपनी मोहर लगा दी है. 1 मई से इस नियम को लागू किया जाएगा, जिसके बाद कोई भी अधिकारी , केंद्रीय मंत्री, राज्य मंत्री लाल बत्ती का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे. केवल आपातकालीन वाहनों को नीली बत्ती इस्तेमाल करने की अनुमति होगी. सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि 1 मई से अब सिर्फ राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश और लोकसभा स्पीकर यह 5 लोग ही लाल बत्ती का इस्तेमाल कर पाएंगे. बताया जा रहा है कि 1 मई तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी भी लाल बत्ती का इस्तेमाल नहीं करेंगे.

आपको बता दे कि मोदी सरकार जबसे सत्ता में आई है कुछ ना कुछ बड़ा काम कर रही है. इस फैसले के बाद मोदी सरकार ने आम जनता को यह बताया है कि सरकार अपने देश को बदल कर दिखाएंगे. 1 मई को मज़दूर दिवस है और मोदी सरकार इस फैसले को लागू करके यह सन्देश देना चाहती हैं कि उनके मंत्री VIP कल्चर से दूर रहेंगे और जनता को परेशानी नहीं होने देंगे. ख़बरों की मानें तो कैबिनेट की ओर से इस फैसले पर 3 बजे तक बयान जारी कर दिया जाएगा.

16 लाख से ज्यादा VVPAT मशीने खरीदेगी सरकार

वित्तमंत्री अरुण जेटली से जानकारी लेते हुए यह पता चला हैं कि केंद्रीय कैबिनेट ने 16 लाख 15 हजार नई मशीन विद वोटर वैरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (VVPAT) खरीदने के लिए 3,173 करोड़ रुपये के फंड को मंजूरी दे दी है. उन्होंने बताया कि सरकारी बजट से ही इन मशीनों को खरीदने की व्यवस्था की जाएगी. अप्रैल 2017 में इन मशीनों के लिए ऑर्डर दिए जाएंगे, तभी सितंबर 2018 तक इनकी आपूर्ति हो पाएगी. इसके बाद जितने भी चुनाव कराए जाएंगे उनमें इन मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग लंबे समय से VVPAT की मांग करता रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने हाल ही में खुद पेश किया था उदाहरण

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने हाल ही में VVIP कल्चर को एकतरफ़ा रख कर सामान्य ट्रैफिक में लोककल्याण मार्ग से लेकर दिल्ली एयरपोर्ट कर का सफर तय किया था. भारत दौरे पर आई बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शुक्रवार (7 अप्रैल) को भारत पहुंची, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद ही उनकी अगुवानी करने पहुंचे थे. पीएम मोदी बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के स्वागत के लिये प्रोटोकॉल के विपरीत आईजीआई हवाईअड्डा पर खुद पहुंचे थे. इस दौरान उनके साथ सिर्फ ड्राइवर और एक एसपीजी कमांडो ही साथ थे.

Rate this post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here