सुलेमानी हकीक रत्न के प्रभाव है चमत्कारी, धारण करते ही बदलेगी किस्मत की काया

0
435
सुलेमानी हकीक
सुलेमानी हकीक

सुलेमानी हकीक: हमारे देश में दो तरह के लोग रहते हैं, एक तो वो जो ईश्वर पर विश्वास करते हैं और उन्ही को अपने दुःख सुख का देवता मानते हैं, और दुसरे वो जो जादू-टोने जैसे नीच काम करके जबरदस्ती खुशियाँ हासिल करना चाहते हैं. इस जादू टोने से बचने के लिए हिंदू धर्म में कईं रत्नों का ज़िक्र मिलता है, जिनके इस्तेमाल से नकारात्मक उर्जा से बचा जा सकता है. इन्ही में से सुलेमानी हकीक भी एक ऐसा ही चमत्कारी रत्न एवं पत्थर है, जो सोई हुई किस्मत को जगाने का दम रखता है.

शास्त्रों में सुलेमानी हकीक को भाग्य जगाने वाला रत्न माना गया है. यह एकमात्र ऐसा रत्न है, जो राहु, केतु और शनि दोष को दूर करने की ताकत रखता है. इसके इलावा यदि आप पर किसी व्यक्ति ने टोना टोटका या मंत्र-तंत्र किया है तो यह उसके प्रभाव को खत्म कर देता है और आपको पॉजिटिव उर्जा प्रदान करता है. इस लेख में हम आपको सुलेमानी हकीक की पहचान और धारण विधि के बारे में बताने जा रहे हैं.

सुलेमानी हकीक की पहचान

दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं, जो बिना किसी कारण के भी उदास बने रहते हैं या कोई ना कोई बिमारी का साया उन पर बना ही रहता है. ऐसा उनके साथ इसलिए होता है क्यूंकि उनके ऊपर नकरातमक शक्तियों का प्रभाव अन्य लोगों के मुकाबले अधिक होता है. वहीँ सुलेमानी हकीक रत्न धारण करने से वह हर प्रकार की बुरी शक्ति और रोग से मुक्त हो सकते हैं. इसको धारण करने से पहले सुलेमानी हकीक की पहचान करना बेहद आवश्यक है. बता दें कि सुलेमान हकीक की पहचान करना बेहद आसान है. यह एक सफेद रंग के डोरे से युक्त काले रंग का पत्थर है जिस पर कोई और अन्य दाग धब्बा नही होता. इसे आप अंगूठी, माला, लॉकेट के रूप में धारण कर सकते हैं. आम तौर पर यह 20 से 25 ग्राम के वज़न का होता है.

सुलेमानी हकीक
सुलेमानी हकीक रत्न

सुलेमानी हकीक धारण करने की विधि

जिन लोगों पर राहु, केतु या शनि ग्रह की बुरी दशा चल रही है, उन्हें सुलेमानी हकीक रत्न आवश्य धारण करना चाहिए. यह हीलिंग स्टोन बुरी नजर और टोने-टोटके के प्रभाव को खत्म करता है. सुलेमानी हकीक को स्त्री और पुरुष दोनों ही पहन सकते हैं. यहाँ तक कि बच्चों को पहनने से भी इसके अनेकों लाभ देखने को मिलते हैं. सुलेमानी हकीक धारण करने की विधि जानने के लिए निम्नलिखित स्टेप्स आवश्य पढें. इसके इलावा कोशिश करें कि आप इसको शनिवार के दिन धारण करें.

  • सुलेमानी हकीक धारण करने के लिए शनिवार का दिन सबसे शुभ माना गया है क्यूंकि इस दिन शनि देव का प्रभाव सबसे अधिक होता है. ऐसे में कोई भी स्त्री, पुरुष या बच्चा इस दिन इसको धारणकर सकता है.
  • सुलेमानी हकीक को धारण करने से पहले इसका शुद्धिकर्ण कच्ची लस्सी या फिर गोमूत्र से कर लें.
  • इसको अंगूठी के रूप में आप मध्यम ऊँगली में धारण करें.
  • इसको आप चांदी की अंगूठी में धारण करें और सीधे हाथ में धारण करें.
  • यदि आप अंगूठी के रूप में सुलेमानी हकीक धारण नही करना चाहते तो इसका लॉकेट बना कर गले में फन सकते हैं.

सुलेमानी हकीक की कीमत

बहुत से टीवी विज्ञापनों में सुलेमानी हकीक की कीमत 2190 या 2500 रुपए बताई जाती है. जबकि इसका सही दाम 150-180 रुपए प्रति कैरट है. कुछ जगहों पर इसकी कीमतों में अंतर देखने को मिल सकता है.

4.8 (95%) 8 votes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here