सोलन में घूमने की जगह

0
256
सोलन में घूमने की जगह

माँ शूलिनी के नाम पे पड़ा सोलन शहर का नाम जो हिमाचल की हसीं वादियों में बसा एक सूंदर शहर है. सोलन शहर को मशरूम सिटी के नाम से भी जाना जाता है. आज हम आपको बताएंगे सोलन में घूमने की जगह जहाँ घूम कर आपका मन प्रसन हो जाएगा और आप जब भी सोलन आएँगे आप इन स्थलों पर जरूर जाएंगे.

आज हम आपको बताएंगे सोलन शहर के सात पर्यटन स्थल:

1. माँ शूलिनी माता का मंदिर: शूलिनी माता की असीम कृपा है सोलन में रहने वाले लोगों पर और यहाँ आने वाले पर्यटकों पर. सोलन शहर के लोगों का मानना है की माँ शूलिनी की उन पर हमेशा कृपा रहती है. माँ शूलिनी माता का मंदिर सोलन शहर के बिच में स्तिथ है. अगर आप कभी भी सोलन आएं तो माँ शूलिनी के दर्शन करने जरूर जाएं.

2. जटोली शिव मंदिर: जटोली शिव मंदिर सोलन का एक मशहूर पर्यटक स्थल है. यह सोलन शहर से करीब ८ किमी दूर राजगढ़ मार्ग पर स्तिथ है. यह मंदिर एशिया का सबसे ऊंचा शिव मंदिर है. इसके गुमबद की ऊंचाई १११ फिट है. इस मंदिर को बनने में ३९ साल लगे है. इस मंदिर का शिवलिंग पर्यटकों का मुख्या आकर्षक केंद्र है. सोलन आएं तो भोलेनाथ के दर्शन करने जरूर जाएं.

3. मोहन शक्ति हेरिटेज पार्क: मोहन शक्ति हेरिटेज पार्क कालका- शिमला मार्ग पर स्तिथ है.यह पार्क सोलन शहर का पृमुख केंद्र है. यह पार्क स्व. श्री कपिल मोहन द्वारा बनाया गया है. कहा जाता है की उन्हें यह मंदिर बनाने की तब सोची जब उन्हें एक रात माता ने सपने में दर्शन दिए और उन्हें एक भवन की स्थापना करने को कहा. इस पार्क में अद्भुत शिल्पकारी का नमूना पेश किये गए हैं.

4. करोल का टिब्बा: यह सोलन शहर का एक और मशहूर पौराणिक स्थल है. यह स्थल उन लोगों के लिए है जो रोमांचक और पदयात्रा करना पसंद करते है. यह स्थल सोलन शहर के चम्बाघाट क्षेत्र से ६ किमी का पैदल रास्ता है. यह स्थल मशहूर है पांच पांडवों की गुफा के लिए. कहा जाता है की यह गुफा पांडवों द्वारा तब बनाई गयी थी जब उन्हें अज्ञात वास काटने के लिए जंगलों में रहना पड़ा था.

5. काली का टिब्बा: काली का टिब्बा सोलन शहर से ४८ कि.मी. चायल मार्ग पर स्थित है. यहाँ माँ काली का भवनिय मंदिर है. इस मंदिर का दृश्य बहुत ही सुन्दर और मनमोहक है. यह मंदिर लोगों को दूर-दूर से आकर्षित करता है. यह मंदर समुन्द्र तल से २२२६ मीटर की उचाई पर स्थित है. इतनी ऊंचाई से प्राकृतिक दृश्य बहुत सुंदर दिखाई देता है.यह एक ऐसी जगह है जो सोलन में घूमने के लिए बहुत ही अच्छी है. अगर अप हिमाचल की वादियों का लुत्फ उठाना चाहते हैं तो यहाँ जरूर आएं.

6. बॉन मोनेस्ट्री: सोलन शहर से करीब १६ कि.मी. दूर दोहलांजी में स्तिथ है. यह मोनेस्ट्री विश्व की दूसरी सबसे पुरानी मोनेस्ट्री है. इस मोनेस्ट्री की स्थापना १९६९ में अब्बूप्त लुंगता टेंपे नईमा ने की थी. यह के प्रमुख है मेरी त्रिजीं. यहाँ का माहौल बहुत ही शांत है और मन को बहुत ही शांति प्रदान करता है.

7. धारों की धार: धारों की धार सोलन शहर से २० कि.मी. दूर जौन्जी मार्ग पर है. यहाँ का मुख्य आकर्षण का केंद्र है राजा का किला. कहा जाता है यह किला राजा ने एक रात में बनवाया था. इस किले में एक खुफ़िआ रास्ता भी बनाया गया था ताकि यदि राजा जंग हार जाए तो वह वहां से भाग जाए. इस किले से बहुत ही मनमोहक दृश्य दिखाई देता है.

4.7 (94.67%) 15 vote[s]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here