Home ज्योतिष क्या है कालसर्प दोष? और क्या हैं इससे बचने के उपाय?

क्या है कालसर्प दोष? और क्या हैं इससे बचने के उपाय?

658
0
SHARE
Kaal Sarp Dosh
Image Source: https://pixabay.com/p-1543058/?no_redirect
क्या है कालसर्प दोष? और क्या हैं इससे बचने के उपाय?
5 (100%) 4 votes

जानिए काल सर्प दोष (Kaal Sarp Dosh) और इसके निवारण

हिंदू धर्म में बहुत सी मान्यताओं को तर्कहीन माना जाता है और बहुत सी मान्यताओं पर लोग आँख बंद कर के विश्वास करते हैं. आज हम आपके लिए लाए हैं काल सर्प दोष (Kaal Sarp Dosh) के बारे में पूरी जानकारी और काल सर्प दोष (Kaal Sarp Dosh) से बचने के उपाय.

क्या है काल सर्प दोष (Kaal Sarp Dosh)?

जब भी कुंडली के ग्रह राहु और केतु के बीच में आ जाते हैं तो यह काल सर्प योग (Kaal Sarp Yog) बनाता है. काल सर्प योग (Kaal Sarp Yog) के अच्छे और बुरे दोनो ही प्रकार के प्रभाव हो सकते हैं. यह हमारे ग्रहों की चाल पर निर्भर करता है कि काल सर्प योग (Kaal Sarp Yog) से हमें अच्छे फल प्राप्त होंगे या हमें काल सर्प दोष (Kaal Sarp Dosh) के बुरे प्रभावों का सामना करना पड़ेगा. इस दोष से बचने के लिए हम बहुत से उपाय कर सकते हैं.

काल सर्प दोष से बचने के उपाय

1. जैसा कि हम सभी जानते हैं कि मोर साँप का जानी दुश्मन समझा जाता है अतः जो भी व्यक्ति काल सर्प (Kaal Sarp Dosh) से पीड़ित है उसको चाहिए कि वह प्रतिदिन मोर पंख की हवा ले. इस उपाय को दिन में तीन बार दोहरायें, ऐसा करने से काल सर्प दोष का असर धीरे-धीरे कम होने लगता है.

2. भगवान शिव को नाग बहुत प्रिय हैं, अतः शिव जी ने इन्हें ख़ास स्थान प्रदान किया है. जो भी व्यक्ति काल सर्प योग (Kaal Sarp Yog) से पीड़ित है यदि वह शिवालय में जा कर चाँदी के नाग-नागिन का जोड़ा शिव भगवान को अर्पित करें. यह उपाय करने से शिव भगवान अत्यंत प्रसन्न होंगे और आपकी सारी मनोकामनाएँ पूरी करेंगे.

3. जिस भी व्यक्ति की कुंडली में काल सर्प योग (Kaal Sarp Yog) हो उस व्यक्ति को शिव जी के अत्यंत प्रिय महामृत्युंज मंत्र का जाप करना चाहिए. यदि जातक मंत्र जाप करने में असमर्थ हो तो कम से कम मंत्र की कैसेट को अवश्य सुने.

4. प्रतिदिन सुबह नित्य कर्म से निवृत होकर स्नान आदि कर के शिवलिंग को जल चढ़ायें तथा काले कुत्ते को रोटी अवश्य खिलायें यदि काला कुत्ता ना मिले तो किसी भी कुत्ते को रोटी दे सकते हैं. यह उपाय करने से भी बहुत से कष्टों का निवारण होता है.

5. नाग पंचमी के दिन शिवालय में जा कर शिवजी को दुग्ध से स्नान करायें तथा चाँदी के नाग-नागिन का जोड़ा अर्पित करें. इससे शिव जी बहुत प्रसन्न होते हैं और हर मनोकामना पूर्ण करते हैं.

उपरोक्त सभी उपायों को करने से आप काल सर्प दोष (Kaal Sarp Dosh) से मुक्ति पा सकते हैं. परंतु आपको ढोंगी पंडितों तथा बाबाओं के झाँसे में नहीं आना है. बहुत से पाखंडी पंडित सिर्फ़ कमाई करने के लिए भोले-भाले लोगों को अपने जाल में फ़सा लेते हैं और उनसे उपाय करने के नाम पर खूब पैसे लूटते हैं. हम अपने पाठकों से अनुरोध करना चाहेंगे कृपया ऐसे पंडितों से बचने की कोशिश करें और इनके पाखंड का शिकार ना बनें.

LEAVE A REPLY